Tuesday, May 4, 2010

लोग क्या सोचेंगे मेरे बारे मैं

कभी कभी सोचता हूँ इस जहाँ के बारे मैं 
                                         समाज के बारे मैं इसके रीति रिवाज़ के बारे मैं 
करते नहीं क्यों एक दुसरे से मोहब्बत 
                                            सोचते हैं सिर्फ और सिर्फ अपने बारे मैं 
 सोचता हूँ  हम मिटा दू सभी के दुःख दर्द
                                                लेकिन ख्याल आता हैं लोग क्या सोचेंगे मेरे बारे मैं 
देखता हूँ सिसकती माँ और भूखे बच्चो को 
                                                 रेलवे स्टेशन पर सड़क के किनारे मैं 
सोचता  हूँ पौछ दूँ इनके आंसू  और भर दूँ इनके पेट 
                                                         लेकिन ख्याल आता हैं लोग क्या सोचेंगे मेरे बारे मैं 
ठिठुरते हैं लोग नंगे बदन सर्द रातो मैं 
                                       अमीर लोगो के कुत्ते सोते हैं गर्म कम्बल और लिहाफो मैं 
सोचता हूँ ढक दूँ सभी के तनो को ठंडी रातो मैं 
                                               लेकिन ख्याल आता हैं लोग क्या सोचेंगे मेरे बारे मैं 
जाती हैं जाने सेकड़ो लोगो की फुटपाथों पर 
                                                आये थे लावारिस चले गये लावारिस 
सोचता हूँ रूबरू करा दूँ उनको उनकी पहचान के बारे मैं 
                                                 लेकिन ख्याल आता हैं लोग क्या सोचेंगे मेरे बारे मैं ...........................................
 

7 comments:

देव कुमार झा said...

भाई इस दुनिया का सबसे बडा रोग... जानें क्या कहेंगे लोग.

बहुत अच्छी रचना..

Madhukar said...

kuch to log kahenge....kehne do...badhiya likha hai.

Rahul said...

kuch to log kahenge, logo ka kaam hain kahanaa
chhodo, bekaar kee baato mein , kahi beet naa jaaye rainaa.

'अदा' said...

logon ki jo parwaah karte hain wo kabhi aage nahi badhte hain..
wahi karna chahiye jiske liye man ijazat de..
sundar kavita...
dhnywaad..

amit said...

saab logo k bare me mat socho apne logo k bastavik dard ko samja h to usse dur karne k raste me logo ko mat ane do saab............samaj k priti apke aseem prem kable tareef h.............

Dimpal Maheshwari said...

आपकी टिपण्णी के लिए आपका आभार ...अच्छी कविता हैं...बहुत अच्छी .

FrienDs 4 EveR. said...

nice my dear friends
iam praud of u ?